Popular Posts

Pages

Powered by Blogger.

Followers

Search

Jahanabad Village - Beautiful river side of Holy Ganga




 Place: Jahanabad, Distt. Bijnor, Uttar Pradesh, India


A very beautiful Jahanabad Kund at Distt Bijnor, U.P.
 
उत्तर प्रदेश के ज़िला बिजनौर में गंगा किनारे बसे गाँव जहानाबाद के कुंड का मनोहरी दृश्य


Different Angle of Jahanabad Kund


 जहानाबाद कुंड का एक और अद्भुत नज़ारा





Eid Gaah beside Jahanabad Kund at Distt Bijnor, Uttar Predesh
 
जहानाबाद कुंड के करीब ही बनी हुई है यह ईदगाह, जिससे लगकर पवित्र गंगा नदी बहा करती है, परन्तु अभी गंगा नदी यहाँ केवल वर्षा ऋतू में ही बहा करती है, जबकि आम दिनों में यहाँ से 700-800 मीटर दूर चली जाती है और यहाँ  केवल एक छोटी धारा रह जाती है.





A small stream of Ganga behind the Eid Gaah
 
 ईदगाह के पीछे बहती गंगा की एक छोटी धारा





Rear view of Eid Gaah
 
 ईदगाह की मोखली से पीछे बहती गंगा की धारा का दृश्य





Eid Gaah Minar
 
 ईदगाह की मीनार


  


Accommodation for pigeons in the air
 
कबूतरों का अड्डा 





Beautiful Holy Cow
 
मौसी के आँगन में खड़ी एक बेहद खूबसूरत गाय, अभी यह अकेली रह गई है.
पहले यहाँ 40-50 गाय एक साथ रहा करती थी.





Naulakha at Village Jahanabad, Distt Bijnor, Uttar Pradesh
 
गाँव में बना हुआ है नौलखा, यह एक किला था, परन्तु अभी इसका काफी हिस्सा खंडर में तब्दील हो गया है.





Other Side of Naulakha
 
< >

31 comments:

  1. निहायत खूबसूरत फोटो हैं...वाह...
    नीरज

    ReplyDelete
  2. चित्रों को देखकर एक मंजे हुए फोटोग्राफर नज़र आते है। लाजवाब है तिरछी नज़र!!

    इदगाह, पार्श्व में गंगा और ढलती हुई शाम!! यह चित्र खुबसूरत है।

    ReplyDelete
  3. खूबसूरती को बहुत सुन्दर कैद किया है

    ReplyDelete
  4. प्रिय भाई शाहनवाज़ जी
    सप्रेम नमस्ते !

    आपकी तिरछी नज़र की जितनी तारीफ़ की जाए , कम है । एक से एक ख़ूबसूरत चित्र हैं …
    क़लम के तो ज़ादूगर हैं ही आप , कैमरे के भी अच्छे फ़नकार हैं … बहुत बह्त मुबारकबाद !
    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !


    मित्रता दिवस की मंगलकामनाओ के साथ

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  5. ब्लॉग का नाम तिरछी नज़र क्यों चश्मेबद्दूर क्यों नहीं...

    जहानाबाद की झांकी के साथ मुझे तो एड भी बड़े पसंद आए, चटके लगा दिए हैं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत तस्वीरें हैं !

    मुझे भी फोटोग्राफी का शौक है पर कैमरा व समय की कमी ने यह शौक जाने कहाँ दबा दिया...

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत फोटो..!!

    ReplyDelete
  8. Wa Sirji Wa बहुत खूबसूरत तस्वीरें हैं !

    Cha gaye tussi.............

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत फोटो..आनन्द आ गया.

    ReplyDelete
  10. बेहद खूबसूरत !


    क्या ये मुमकिन था कि आप फोटोग्राफ्स के साथ जहानाबाद / ईदगाह / कुंड / नौलखा वगैरह का हिस्टोरिकल बैकग्राउंड ,जो भी रहा हो , दे देते !

    ReplyDelete
  11. खूबसूरत चित्र...!!!

    ReplyDelete
  12. ali said...
    बेहद खूबसूरत !


    क्या ये मुमकिन था कि आप फोटोग्राफ्स के साथ जहानाबाद / ईदगाह / कुंड / नौलखा वगैरह का हिस्टोरिकल बैकग्राउंड ,जो भी रहा हो , दे देते !



    अली सा
    मैं जानकारी देने की अवश्य कोशिश करूँगा

    ReplyDelete
  13. मुबारक हो एक खूबसूरत ब्लॉग के लिए !

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर तस्वीरें....

    ReplyDelete
  15. खूबसूरत फोटो.

    ReplyDelete
  16. चित्र बहुत खूबसूरत हैं। पर ये नौलखा क्या है, देखने से कोई मजार जैसी लग रही है। जरा इस के बारे में बताएँ।

    ReplyDelete
  17. शाह नवाज़ जी ! लीजिये बन गया मैं भी आपका फालोअर. फोटो अच्छे हैं पर और अच्छे होने की गुंजाईश है अभी. "तिरछी नजर" अच्छी है. आशा करूंगा कि आपके चित्र बोलते रहें ....कुछ ऐसा बोलें कि देखने वाले को सोचने पर मजबूर कर दें. जैसे दिल्ली के प्लेटफोर्म नंबर तीन पर फ़ैली गन्दगी के कई ढेर ! या एकदम एकांत में किसी तालाब में खिले कुमुदिनी के फूल ......या ऐसा ही और कुछ.
    गंगा की क्षीण dhaar से man niraash हुआ, गाय dekh कर puraanee yaaden आ गयीं .
    अली जी की बात से सहमत हूँ ....मोनूमेंट्स के साथ संक्षिप्त हवाला भी पर्याप्त होगा

    ReplyDelete
  18. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर फ़ोटो .प्रकृति और परिवेश का यह रूप दिखाने के लिये भी पारखी नज़र चाहिये - 'तिरछी नज़र' का अभिनन्दन !

    ReplyDelete
  20. bahut hi khubsurat blog hai yaar...dekha nahi tha..abhi ganga ki kinare ka 350 kilometer ka safar karke aaya hu...dono tahraf...kabhi idhar kabhi udhar.....desh ke sanskrti me saami hai ganga....desh ke gaaon..sab kuch...

    ReplyDelete
  21. सुन्दर चित्र....आभार....
    कृपया इसे भी पढ़े
    नेता,कुत्ता और वेश्या

    ReplyDelete